Sunday, 3 July 2011

कृपया मेरा मार्गदर्शन करें...

दोस्तों !
कुछ समय पहले मैंने एक नए साझा ब्लॉग चालु करने की बात की थी. पर इस विचार के चलते मैं अभी नए साझा ब्लॉग की बात को भविष्य की योजना के तौर पर फिलहाल छोड़ रहा हूँ कि 

फिलहाल ब्लॉग्गिंग के इस मैदान पर, अपनी भी एक पहचान बना लूं...
के क्या पता कल मेरी पहचान से ही कोई मेरा हमसाया बन जाये...

मेरे कहने का मतलब है कि अभी तो मैं खुद ही एक नया ब्लॉगर हूँ, थोड़े और अनुभव की अभी मुझे और जरूरत है...

इसीलिए आज मैं सबसे पहले आप सभी से माफ़ी मांगूगा क्योंकि मैं अपने वादे पे खरा उतर न पाया...

ये फैसला लेना मेरे लिए बहुत मुश्किल था, क्योंकि ब्लॉग्गिंग का बुखार मुझे ऐसा करने से रोक रहा था. चलो जो होता है अच्छा ही होता है... इसीलिए ज्यादा गम करना सही नहीं है... 

आजकल जब भी कभी मुझे कुछ लिखने का मन नहीं होता तो मैं नए ब्लोग्स में जाकर उनके लेख पढता हूँ, और चाहे वो लेख मुझे अच्छा न भी लगे तो भी उसपे एक सकारात्मक कमेन्ट भी करता हूँ ताकि ब्लॉगर का हौसला बढे और वो इससे भी अच्छी पोस्ट लिखता रहे (क्योंकि समय के साथ लेखन में भी सुधर आ ही जाता है). कभी कभी कुछ ऐसे भी ब्लॉग मिल जाते हैं जो बिलकुल ही नए होते हैं और उन ब्लॉग को लिखने वाले ब्लॉगर भी. पर नए होने के कारण भी उनके लेखन में परिपक्वता दिखाई देती है. बस जब मैंने ये फैसला लिया कि नए साझा ब्लॉग के बारे में बाद में सोचा जायेगा, तभी ये ख्याल आया कि क्यों न ऐसे ब्लॉगर जो कि अब भी बिलकुल नए हैं उनके लेखों को पढ़ के उनके व्यक्तित्व व उनके ब्लॉग की प्रशंसा अपने ब्लॉग में की जाये... चूंकि ऐसा ही कुछ काम कोटा, राजस्थान के वकील साहब अख्तर खान "अकेला" जी कर रहे हैं अपने ब्लॉग पे, और उनके ब्लॉग से भी मुझे भी यही प्रेरणा मिली...

इस हेतु आप सभी से सुझाव की आशा करता हूँ और आप सभी से कुछ सवालों के जवाब भी चाहता हूँ कि 

  1. क्या मेरा साझा ब्लॉग बनाकर नए ब्लोग्गेर्स को प्रोत्साहित करने का फैसला भविष्य की भेंट चढ़ा देना सही है ?
  2. क्या अभी जो फैसला मैंने लिया है उस फैसले को साकार रूप देने के लिए मुझे अपने इसी ब्लॉग में नए ब्लॉगर को प्रोत्साहित करना चाहिए ?
  3. या फिर किसी नए ब्लॉग पे ये जानकारी उपलब्ध करवाना सही होगा ?
  4. और अगर नया ब्लॉग बनाया जाए तो क्या उसे एक साझा ब्लॉग में तब्दील कर दिया जाये ताकि जो भी मेरे साथ इस कार्य में जुड़ना चाहे लिख सके... ?
  5. और भी कोई सवाल आपके मन में हों जिनके जवाब आपको पता हों तो वे भी बताएं...
आप सभी से सहयोग व सुझाव की आशा है मुझे, कृपया मेरा मार्गदर्शन करें... 

और हाँ ! नए साझा ब्लॉग जिस पे नवोदित ब्लॉगर को प्रेरित करने के लिए प्रतियोगिता मंच का निर्माण करने की जो मैंने घोषणा की थी, उसे भविष्य की योजना के बस्ते में मैंने जरूर डाल दिया है, पर हो सकता है कि ये बस्ता बहुत जल्द खुल जाए... इसीलिए आप सभी से अनुरोध है कि जल्द से जल्द मेरे सवालों के जवाब दें और मुझे सुझाव भी दें...

नए साझा ब्लॉग की जानकारी के लिए - यहाँ क्लिक करें

और अगर आप मुझसे ईमेल के जरिये संपर्क करना चाहें तो मुझे - mbarmate@gmail.com पर ईमेल करें...

हर पल कुछ नया सीखने को तैयार...

- महेश बारमाटे "माही"

3 comments:

  1. नए ब्लोग्गेर्स को प्रोत्साहित करने के लिए साझा ब्लॉग की क्या जरुरत है, इसी पर करें.

    ReplyDelete
  2. प्रिय महेश जी ! आप हिंदी ब्लॉगर्स फ़ोरम इंटरनेशनल के अति सम्मानित सदस्य हैं और जिस तरह की भी प्रतियोगिता आप आयोजित करना चाहें, आप कर सकते हैं। मंच भी तैयार है और लोग भी जुड़े हुए हैं। आप यह काम अब से शुरू करना चाहें तो अब से शुरू कर दीजिए लेकिन मेरी कुछ सलाहें हैं आपके लिए, जिन्हें आप न मानना चाहें तो न मानें।
    1- मिसाल के तौर पर यह कि हमें एक समय में अपना ध्यान एक ही अभियान पर लगाना चाहिए। कई कामों पर ध्यान लगाने से हमारी शक्ति बंट जाएगी और कोई भी काम सही तरह से न हो पाएगा।
    2- आप अगस्त के महीने से अपनी प्रतियोगिता शुरू कर दीजिए तब तक हिंदी ब्लॉगिंग गाइड के लेख भी पूरे हो जाएंगे और मंच को भी एक इवेंट की ज़रूरत पेश आएगी। ऐसे में सभी लोग पूरे उत्साह से आपकी प्रतियोगिता में सहयोग कर सकेंगे।
    3- हिंदी ब्लॉगिंग गाइड के लिए आपने लेख लिखे और कुछ अन्य काम भी किए लेकिन आपको इससे ज़्यादा भी करना था। अगर आप वह काम करते तो आपके पास आज समय ही नहीं होता। आप कई साझा मंच के सदस्य हैं और फ़ेसबुक पर भी आपका ग्रुप ब्लॉग सक्रिय है। आपको उसमें हिंदी ब्लॉगिंग गाइड का प्रचार करना था और अपने परिचितों को इसके लेख के लिंक भेजने थे जैसे कि मैं कर रहा हूं और इसीलिए मेरे पास किसी और काम के लिए समय ही शेष नहीं बचा। आपको पूरे हिंदी ब्लॉग जगत में इस गाइड का ज़बर्दस्त प्रचार कर देना था रोज़ाना ही। इससे लोगों को इस गाइड से आपके गहरे जुड़े होने का इम्प्रेशन भी मिलता। इससे आपका क़द बढ़ता और आपके किसी भी इवेंट से जुड़ना लोग गर्व की बात समझते।
    कृप्या इस अभियान का पूर्ण समर्पित होकर घनघोर प्रचार कीजिए। इसके लिए आप रोज़ाना एक लेख लिख लीजिए कि आज अमुक साहब ने लेख लिखा और यह बात बताई। अपने शब्दों में उसका सार लिखकर लेख का लिंक दे दीजिए। लोग खिंचे चले आएंगे। सब जगह इसका चर्चा भर दीजिए।
    यह एक टीम वर्क है। टीम के हरेक साथी को इसका ख़ूब प्रचार करना चाहिए। यही ब्लॉगिंग का मज़ा है। इसी दरम्यान आपके सामने वे लोग खुलकर आ जाएंगे जो अभी आपको अपने दोस्त लगते हैं लेकिन जैसे ही वे आपका क़द बढ़ता हुआ महसूस करेंगे वे आप पर व्यंग्य करने के लिए आ जाएंगे। इससे आपको अपने विरोधियों की पहचान भी हो जाएगी।
    आप लेख भी लिखिए और जिस जिस का लेख प्रकाशित होता जाए। उसका प्रचार करते जाएं।
    सबके इवेंट आपके इस अभियान के सामने फीके पड़ जाएंगे।
    एकता में शक्ति है।
    यह मेरी सलाह है।
    धन्यवाद !
    ब्लॉगिंग के बुनियादी उसूल Hindi Blogging Guide (4)

    ReplyDelete
  3. नए ब्लोग्गेर्स को प्रोत्साहित करने के लिए उनको अधिक से अधिक ब्लॉग पे टिप्पणी देना सीखें और उनके ब्लॉग को संकलक से अवश्य जोडें. टिप्पणी लेख पढ़ के कि जाए और वो ब्लॉगर जल्द नज़र मैं आ जाता है. साझा ब्लॉग नए ब्लोगेर को आगे तभी बढ़ा सकता है जब उस साझा ब्लॉग पे अधिक से अधिक लोग आते हों. ऐसे बहुत से साझा ब्लॉग हैं जिनका इस्तेमाल किया जा सकता है.

    ReplyDelete