Monday, 4 July 2011

हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड : एक नया अध्याय

आह... !

कितना हसीं समां है... 
चारो ओर हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड के ही चर्चे हो रहे हैं...

कल तक जो बस एक ख्वाब था,
आज देखो आसमान में चमक रहा है...
हमने तो बस एक भीनी खुशबु की चाहत की थी,
देखो आज सारा जहां महक रहा है...

      आज से करीब दो महीने पहले, डॉ. अनवर ज़माल खान जी ने हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड नामक एक किताब प्रकाशित करने का वादा किया था.  और देखो आज हमारे पास न केवल हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड की रूपरेखा है बल्कि इस गाइड के लिए आवश्यक लेख भी हैं... और तो और सारा हिंदी ब्लॉग्गिंग जगत भी हमारे साथ है. क्योंकि आज हमारा मीडिया तो विज्ञापनकर्ताओं और राजनेताओं के पैरों की जूती बनता जा रहा है और ऐसे समय ब्लॉग्गिंग वो जरिया बनता जा रहा है जिसके तहत हम अपने दिल की बात सारी दुनिया को बता सकते हैं...
      और आज हर इंसान के मन में हजारों स्वप्न, हजारों ख्वाहिशें और हजारों बातें दबी हुई हैं पर आज की इक्कीसवीं सदी का इन्सान पहले की तरह अपने सपनो, ख्वाहिशों या बातों, इरादों को दबाना नहीं चाहता. वह भी चाहता है की अपने दिल की बात किसी से कही जाए, किसी को कुछ बताया जाए, ऐसा कुछ जो समाज का या देश का नजरिया ही बदल दे, पर सही मार्गदर्शन की कमी के कारण इंसान का आत्मविश्वास डगमगा जाता है और वो वही करता है जो उससे करवाया जाता है या फिर उसके हालात उसे करने पे मजबूर कर देते हैं...
ऐसे में एक आम इंसान क्या करता है ?
       वो या तो चुपचाप नज़ारा देखता है या मन ही मन खुद को या व्यवस्था को कोसता है या फिर अगर थोड़ी सी कल्पना शक्ति होती है तो कागजों पे या डायरी में लिख डालता है... पर वो डायरी या वो कागज पे लिखे शब्द सिर्फ उस तक ही सीमित होते हैं, समाज तक पहुँच ही नहीं पाते... 
      ऐसे में इन्टरनेट एक ऐसा माध्यम बन के आगे आया है कि इसके जरिये हम सारे विश्व में क्रांति ला सकते हैं... तो फिर क्यों न इसे अपनी बात कहने का एक ऐसा माध्यम बनाया जाए जिसके तहत हम अपनी बात अणि भाषा व अपने लहजे में कह सकें... 

       ब्लॉग्गिंग भी आज ऐसा ही माध्यम है जिसके बारे जितनी तारीफ की जाये कम लगती हैं... पर नए लोग जिन्हें इन्टरनेट सिर्फ ऑनलाइन गेम खेलने, यूट्यूब पे विडियो देखने या नए सोफ्टवेयर डाउनलोड करने इत्यादि का माध्यम ही लगता है उन्हें ब्लॉग्गिंग की दुनिया में लाने के लिए ब्लॉग्गिंग सिखानी भी पड़ेगी. अगर लगन है तो इंसान बिना गुरु के भी सीख लेता है और थोड़े से आत्मविश्वास की कमी से इंसान अपनी लगन से भी हाथ धो बैठता है. ऐसे में अगर भारत में हिंदी में ब्लॉग्गिंग करने की कोई सोचता है तो उसके पास बहुत सारी कठिनाईयां भी झेलनी पड़ती हैं...

बस इन्ही फायदे व कठिनाइयों को मद्देनज़र रखते हुए, पहली बार एक पहल की जा रही है, एक सम्पूर्ण मार्गदर्शिका बनाने की जो हिंदी में हमारे भारत के करोड़ों हिंदी भाषी लोगों को ब्लॉग्गिंग की दुनिया का रास्ता दिखायेगी... इसी पहल का नाम है - हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड.

     मैं महेश बारमाटे "माही", आज से हर पल आपको हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड की सारी जानकारी देने की एक नयी श्रंखला अपने ब्लॉग "कुछ दिल से..." में प्रस्तुत करने जा रहा हूँ... 

फिलहाल हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड के बारे में ज्यादा जानकारी जानने के लिए आप निम्न लिंक पे जा के हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड के हर पल से जुड़ सकते हैं...



अगर आप हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड के गूगल ग्रुप से जुड़ना चाहते हैं तो अपना ईमेल हमे कमेन्ट करें या मुझे ईमेल करें - mbarmate@gmail.com पर ...

इस पोस्ट के अगले संस्करण में पढ़ें - हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड का नए गूगल ग्रुप, लिंक्डइन.कॉम पे हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड का ग्रुप, तथा हिंदी ब्लॉग्गिंग गाइड से सम्बंधित कुछ रोचक जानकारियाँ...


- महेश बारमाटे "माही"

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
विज्ञापन - 

11 comments:

  1. आपने तो कमाल ही नहीं बल्कि सुपर कमाल कर डाला ।

    ReplyDelete
  2. प्रिय महेश जी ! आपने लिखा है कि सारा ब्लॉग जगत भी हमारे साथ है ।

    ऐसा नहीं है ।
    आप विचार कीजिए कि अगर सारा हिंदी ब्लॉग जगत हमारे साथ होता तो आपको कोई एक ब्लॉगर भी टिप्पणी देने नहीं आया, मेरे अलावा । यहाँ तक कि कोई जबलपुरी ब्लॉगर तक भी नहीं आया , क्यों ?

    क्योंकि वे यह बात हज़्म ही नहीं कर पा रहे हैं कि एक कल का लौंडा ऐसा काम कर दे जो कि उनके दिमाग़ में 7 साल में भी न आया हो ।

    ये लोग अपनी बड़ाई चाहते हैं और गुटबंदी करके ब्लॉग जगत को सड़ा रहे हैं और पुराने ब्लॉगर्स को यहाँ से भगा रहे हैं ।

    जो ऐसे नहीं है वे आपके साथ हैं । ऐसे लोग आज कम हैं । इसीलिए हमारे साथ आज कम लोग हैं ।

    आपकी यह पोस्ट इस बात का सुबूत है कि यहाँ के बड़बोले ब्लॉगर्स की नज़र में सकारात्मक काम की वैल्यू कुछ भी नहीं है ।

    आपकी यह पोस्ट बड़े कहलाने वाले ब्लॉगर्स को सदा आईना दिखाती रहेगी।

    ReplyDelete
  3. बहुत बहुत शुभकामनाएं आपको इस दुरूह कार्य के लिए , मुझे उम्मीद है कि अब तक हिंदी ब्लॉगिंग में आ चुके लगभग चालीस पचास हज़ार ब्लॉगर्स को भी इससे लाभ होगा । पुन: शुभकामनाएं ।

    डॉ अनवर जमाल , आपको भी शुभकामनाएं , आप जो करने आए हैं वही कर रहे हैं शुक्रिया

    ReplyDelete
  4. kisi kavi ne kaha hai-
    ''kaun kahta hai aasman me surakh nahi ho sakta,
    ek patthar to tabiyat se uchhalo yaron.
    aur aap dono buddhijiviyon ne ise sakar kar dikhaya hai.badhai mahesh ji v dr.anwar jamal ji dono ko.

    ReplyDelete
  5. ham comment kar payen ya nahi par ham hamesha aapke sath hain .

    ReplyDelete
  6. @DR. ANWER JAMAL

    अनवर जी... !
    मेरे लिए तो वही ब्लॉग जगत है जहां तक मेरी नज़रें देख सकती हैं... और जैसे - जैसे लोग मेरे करीब आते जायेंगे, यह निगाहों का ये दायरा भी बढ़ता जायेगा...

    और मुझे विश्वास है कि आज नहीं तो कल मैं सारे ब्लॉग जगत को अपने करीब जरूर पाउँगा..

    आपके प्रोत्साहन के लिए बहुत बहुत धन्यवाद...

    @शिखा जी व शालिनी जी...

    आप दोनों के लिए बस यही कहना चाहूँगा कि


    आपका साथ ही तो हमे इस मुकाम पे लेकर आ गया है..
    के आज मंजिल खुद हमारे कदमो को चूमने को बेक़रार खड़ी है...

    ReplyDelete
  7. अजय जी !

    आपका बहुत बहुत शुक्रिया !

    ReplyDelete
  8. बहुत अच्छा प्रयास है। हम जैसे तकनीक से अनजान लोगों के लिये। बहुत बहुत बधाई शुभकामनायें। अभी कमेन्ट पे मत जाईये, बस अपना काम जारी रखिये। जब चलेंगे तो कारवां बनता जायेगा।

    ReplyDelete
  9. नेकी को लोग देर से स्वीकार करते हैं
    और बुराई तेजी के साथ फैलती है!
    आप निराश न हों!
    दैर्य के साथ राह पर चलते रहें।
    मंजिल और सफलता अवश्य मिलेगी!

    ReplyDelete
  10. अच्छा प्रयास है .. बहुत बहुत शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  11. ye to bahut hi behatarin prayaas hai. naye bloggers ko yakinan isase bahut help milegi.

    ReplyDelete