Monday, 11 June 2018

Dhanno, Basanti aur Basant... (धन्नो, बसंती और बसंत)

नमस्कार दोस्तों!
बहुत दिनों बाद, कुछ दिल से... लिखने का मन किया... हालांकि मैं अक्सर दिल से ही लिखता हूँ, फिर भी आज सोचा आपसे साझा किया जाये तो बहुत अच्छा होगा। मेरे इस लेख के शीर्षक से आपको सुप्रसिद्ध हिन्दी फीचर फिल्म "शोले " की याद आ गई होगी। और शायद आप सोच रहे होगे कि मैं बीते जमाने की इस सुपरहिट फिल्म के बारे में कुछ नया या फिर कुछ घिसपिटा सा सुनाने वाला हूँ। तो दोस्तों! ऐसा कुछ भी नहीं है। 
मैं तो आदरणीय व्यंग्यकार, जिन्हे ब्लॉग जगत में सभी जानते हैं, श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव जी द्वारा रचित व्यंग्य संकलन "धन्नो, बसंती और बसंत" के बारे में अपना अनुभव आपके साथ साझा करना चाहता हूँ। और सच कहूँ तो यह पहला व्यंग्य संकलन है जिसे मैंने पढ़ा है। हालांकि मैंने और भी कई किताबें पढ़ी हैं पर व्यंग्य पहली बार। 
इस किताब की शुरुआत में ही मुझे हास्य और व्यंग्य दोनों विधाओं में जो सूक्ष्म अंतर है वो समझ में आ गया। डेली हंट ई-बुक्स के एण्ड्रोइड एप के माध्यम से मुझे उनका यह संकलन पढ़ने को मिला। अभी कुछ दिन पहले ही मैंने यह किताब (ई- बुक) डाउनलोड की और अब भी पढ़ ही रहा हूँ, पर मुझसे रहा ही न गया कि पूरी किताब पढ़ने के बाद इसकी प्रशंसा करूँ। बस मन किया और आज आपके समक्ष हूँ मई। 
श्री विवेक रंजन श्रीवास्तव जी ने बड़े ही संजीदा तरीके से रोज़मर्रा की जिंदगी से संबन्धित विषयों पर व्यंग्य लिखा है, जिसे पढ़ कर आप भी एक बार सोचने जरूर लगेंगे की यार! ये बात मेरे दिमाग में क्यों नहीं आई। विषय की सूक्ष्मता और शब्दों का सही प्रयोग, श्री विवेक रंजन सर को बखूबी आता है। 
श्री विवेक रंजन सर के बारे में आप यूं तो जानते ही होंगे, पर तब भी एक सूक्ष्म सा परिचय देना तो लाज़मी भी है। अतः श्री विवेक रंजन सर जबलपुर के ही निवासी हैं, हाँ! जबलपुर के, जहां से मैं भी हूँ। और इतने साल बाद अप्रेल 2018 में उनसे मिलना हुआ, मिल के बहुत प्रसन्नता हुई कि जितने बड़े पद (मुख्य अभियंता) पर वे म॰ प्र॰ विद्युत मण्डल, जबलपुर में आसीन हैं, उतना ही सादगीपूर्ण स्वभाव और साहित्य के प्रति अपना सर्वस्व प्रदान करने वाले व्यक्तिव के धनी व्यक्ति हैं। जबलपुर की साहित्यिक संस्था में प्रांतीय अध्यक्ष पद पर आसीन श्री विवेक रंजन सर हमेशा साहित्य जगत के नए लोगों को प्रोत्साहित करने में बस लगे रहते हैं। आशा है उनकी रचनाओं को पढ़ने के बाद मुझे और आपको काफी कुछ सीखने को मिलेगा। और जरूर मिलेगा। 
अब आते हैं पुनः हम किताब की ओर - 
जैसा कि मैंने पहले ही आपको बता दिया है कि "धन्नो, बसंती और बसंत" किताब एक व्यंग्य संकलन है, जो कि रोज़मर्रा की जिंदगी से संबन्धित विषयों पर कटाक्ष करते हुये व्यग्यात्मक शैली में लिखी गई है। इसके प्रथम पृष्ठ से ही आप इस किताब में खो जाएँगे। और यदि आपको व्यंग्य पढ़ने का भी अगर शौक न हो तो भी एक अध्याय पढ़ने के बाद आपको लगेगा कि हाँ! सच में पढ़ने में मजा आ रहा है। इसीलिए मैं इस किताब को आपको पढ़ने के लिए ज़ोर डाल कर कहता हूँ कि कृपया एक बार तो पढ़ें जरूर। 
अब मैंने लिंक तो बताया भी नहीं... तो पढ़ेंगे कैसे ?
तो लिंक इस प्रकार है - 

बस 369 केबी की ई-बुक है और यूं तो 100 /- इसकी कीमत है पर डेली हंट पे फिलहाल 80% छूट के साथ केवल 20 /- रु मात्र में मिल रही है। आसानी से डाउन लोड भी हो जाती है। बस इसके लिए आपके गूगल प्ले स्टोर में आपको जाना होगा, डेली हंट बुक्स एप डाउनलोड करना होगा, अपना अकाउंट बनाने के बाद आप इस बुक को खरीद कर व्यंग्य की दुनिया का लाभ उठा सकते हैं। 
आशा है कि आपको मेरा ये लेख पसंद आया होगा। 
चलिये आप इस बुक को पढ़ना स्टार्ट करें, और मैं इसे पढ़ के पूरा करना..। 

- महेश बारमाटे "माही"

0 comments:

Post a Comment